पशुपालन और डेयरी मिट्टी के लाल

एमबीए पास किसान युवक नौकरी छोड़ डेयरी फार्मिंग से कमा रहा हैं 80 हजार रूपये महीना

cow breeding
Did you enjoy this post? Please Spread the love ❤️

तेलंगाना के करीमनगर के रहने वाले अनेनम चंद्रशेखर रेड्डी एक बड़ी प्राइवेट फर्म की नौकरी छोड़ कर डेयरी फार्मिंग का काम कर रहे हैं और दूध उत्पादन से अच्छी कमाई भी कर रहे हैं। उनका यह सफर उतना आसान नहीं था.

चंद्रशेखर के पिता बालरेड्डी पहले इस काम को कर रहे थे उनके पास तीन दुधारू पशु थे लेकिन उससे वि केवल अपने जीवनयापन जितना ही कमा पा रहे थे. बलेरेड्डी, जो हर दिन करीमनगर डेयरी को एक या दो लीटर दूध की दे पा रहे थे , उन्हें अपने बेटे चंद्रशेखर की शिक्षा के लिए भी संघर्ष करना पड़ रहा था ताकि वो शहर जा कर एक अच्छे वेतन वाली नौकरी प्राप्त कर सके.

अपने पिता के सपने के विपरीत, चंद्रशेखर रेड्डी, जिन्होंने करीमनगर शहर के एक निजी कॉलेज से MBA (मार्केटिंग) पूरा किया, अपनी ग्रामीण जड़ों की ओर लौटने के लिए तरस गए और एक ऐसे डेयरी फार्म को चलाने का सपना देखा जो किसी भी नौकरी के बराबर कमाई कर सके। उन्होंने राज्य के अन्य हिस्सों से अच्छी नस्ल की गायों को खरीदा और 2012 में डेयरी फार्मिंग शुरू की।

वर्तमान में, उनके पास 11 दुधारू पशु हैं और प्रतिदिन करीमनगर डेयरी के माध्यम से 80 लीटर दूध की आपूर्ति करते हैं। उनकी मासिक आय 80,000 रुपये है और उन्होंने आने वाले समय में प्रतिदिन 150 लीटर दूध की आपूर्ति करने और मासिक 1.5 लाख रुपये कमाने का लक्ष्य रखा है.

ग्रामीणों के लिए एक रोल मॉडल के रूप में काम कर रहे चंद्रशेखर, पिछले तीन वर्षों से अपने गाँव के दुग्ध उत्पादन संस्थान MPI के अध्यक्ष भी हैं और अन्य युवाओं को डेयरी फार्मिंग के लिए प्रेरित कर रहे हैं। एमपीआई की ओर से, वह अपने गांवों से करीमनगर डेयरी को प्रति दिन 250 लीटर दूध की आपूर्ति की देखरेख कर रहे हैं और उन्होंने कुछ वर्षों में प्रति दिन 500 लीटर दूध की आपूर्ति का लक्ष्य रखा है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.