मुख्य ख़बर पशुपालन और डेयरी सरकारी योजनाएं

मुख्यमंत्री तमांग ने किसानों के हित में शुरू कीं दो नई अभिनव योजनाएं

Chief Minister of Sikkim
Did you enjoy this post? Please Spread the love ❤️

गंगटोक। सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने राज्य के किसानों को लाभान्वित करने के उद्देश्य से दो अभिनव योजनाओं की शुरुआत की है। उन्होंने राज्य पुशपालन एवं पशु चिकित्सा सेवा विभाग द्वारा आज आयोजित एक कार्यक्रम में ‘सूअर उत्पादन प्रोत्साहन योजना‘ और ‘मुख्यमंत्री मत्स्य उत्पादन योजना‘ का भी शुभारंभ किया।

इन दोनों क्षेत्रों में सिक्किम को एक आत्मनिर्भर राज्य बनाने और ग्रामीण लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के उद्देश्य से इन योजनाओं की शुरुआत की गई है। मुख्यमंत्री तमांग ने योजनाओं का शुभारंभ करते हुए किसानों से इन योजनाओं का पूरा लाभ उठाने का आह्वान किया।

सूअर उत्पादन प्रोत्साहन योजना

‘सूअर उत्पादन प्रोत्साहन योजना’ के तहत कम से कम तीन सूअर पालने वाले किसानों को इसका लाभ मिल सकता है। उक्त सूअर का वजन 50 किलोग्राम (प्रत्येक) तक पहुंचते ही किसानों को प्रोत्साहन के रूप में पंद्रह हजार रुपये प्रदान किए जाएंगे। फिलहाल इस योजना का लाभ तीन सूअरों के लिए तय किया गया है।

मुख्यमंत्री तमांग ने अपने संबोधन में इसकी संख्या बढ़ाकर 20 करने की जानकारी दी। यदि किसी किसान के पास 20 सूअर हैं और जैसे ही सूअर का वजन 50 किलो (प्रत्येक) पहुंच जाता है तो किसान को प्रोत्साहन के रूप में एक लाख रुपये दिया जाएगा। सिक्किम में सालाना 14 करोड़ रुपये के सूअर राज्य के बाहर से आयात किए जाते हैं। सरकार ने यह योजना राज्य में ही सूअर उत्पादन बढ़ाने और राज्य का पैसा किसानों के घरों तक पहुंचाने के उद्देश्य से शुरू की है।

मुख्यमंत्री मत्स्य उत्पादन योजना

इसी तरह मत्स्य पालन किसानों को ‘मुख्यमंत्री मत्स्य उत्पादन योजना’ के तहत 60 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान रखा गया है। इस योजना का लाभ मत्स्य पालन किसानों के साथ-साथ मछुआरों को भी मिलेगा। राज्य में करीब 2008 मत्स्य किसान और 1057 मछुआरे हैं। राज्य में सालाना 632 मीट्रिक टन मछली की खपत होती है और इसे राज्य के बाहर से आयात किया जाता है। इस योजना के तहत राज्य में उत्पादित मछली के माध्यम से उपरोक्त मांग को पूरा करने का लक्ष्य लिया गया है।

मुख्यमंत्री तमांग ने अगले साल से राज्य के सर्वश्रेष्ठ सूअर पालक किसान को पुरस्कार के रूप में दो लाख रुपये देने की घोषणा की। इसी तरह राज्य के एक सर्वश्रेष्ठ मत्स्य पालक किसान को भी दो लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें …

राष्ट्रीय पशुधन मिशन (National Livestock Mission) क्या है, इसके बारे में जानें

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.