पशुपालन और डेयरी बड़ी खबर

10 दिन में गाय और भैंस का दूध बढ़ाने का घरेलू नुस्ख़ा (Increase Milk Quantity in 10 Days)

Increase cow milk
Did you enjoy this post? Please Spread the love ❤️

इस उपाय से आपकी गाय और भैंस का दूध दो तरीक़ों से बढ़ता है।

गाय और भैंस का दूध बढ़ाने का घरेलू नुस्ख़ा (Milk badane ka jabrdast desi formula): पहला अगर आपकी गाय गर्भ में है और अभी दूध नहीं दे रही है तो इसे इस्तेमाल करने से गर्भ पूरा होने के बाद का दूध पहले से ज़्यादा होगा। दूसरा अगर आपकी गाय दुधारू है तब भी इस विधि का इस्तेमाल करने से आपकी गाय का दूध बढ़ेगा। बस आप इस फ़ोर्मूले को अच्छे से समझें, यह बहुत ही सरल विधि है और इसमें प्रयोग होने वाला सामान भी बहुत सस्ता है।

सामग्री:

सबसे पहले आपको 3 किलो गेहूं का दलिया लेना है। गेहूं का दलिया गर्मी और सर्दी दोनो मौसम में अच्छा रहता है इसलिए केवल गेहूं का दलिया ही इस्तेमाल करें। लगभग तीन किलों गेहूं का दलिया लें। इसके साथ 50 ग्राम तारमीरा/सोम लें, साथ ही 400 ग्राम शक्कर और 100 ग्राम सरसों का तेल लें।

इन सबके साथ में मीठा सोडा, कोटन सीड्स या कैलसियम भी आप अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं। मीठा सोडा पशुओं की पाचन शक्ति को अच्छा करता है।

बनाने की विधि:

cow

1) सबसे पहले एक बड़े बर्तन में गेहूं का दलिया डाल लें।

2) इसके बाद इसमें पर्याप्त मात्रा में पानी मिला लें, जिसमें दलिया पकाया जा सके।

3) अब धीमी आग पर दलिये को पका लें।

4) जब दलिया पक कर ठंडा हो जाए तो आप इसमें 400 ग्राम शक्कर डालें और अच्छे से मिला लें, शक्कर का इस्तेमाल इसे मीठा बनाने के लिए किया जाता है ताकि पशु इसे आराम से खा सके।

5) इसके बाद इसमें आप 100 ग्राम सरसों का तेल मिलायें। अगर आपका पशु वज़नदार है तो आप सरसों के तेल की मात्रा बढ़ा भी सकते हैं अन्यथा 80-100 ग्राम सरसों का तेल पर्याप्त है।

6) इसके बाद आता है तारामीरा। तारामीरा सरसों की ही एक प्रजाति है जो राजस्थान के कम पानी वाले वाले क्षेत्रों में उगाई जाती है। स्थानीय लोग इसे तथा भी कहते हैं। 50 ग्राम तारामीरा इस मिश्रण में मिलायें।

7) दूध के अलावा यह मिश्रण पशुओं के अन्य कई रोगों में भी कामगर है। अगर आपके पशु को दस्त लगें हैं या उसके मुँह से पानी आता है तो वह भी इस मिश्रण के माध्यम से ठीक किया जा सकता है। दूसरा इसके इस्तेमाल से पशु की पाचन शक्ति भी बढ़ेगी।

8) साथ ही 3-4 दिन में पशु को दो चम्मच मीठा सोडा भी दें। इससे पशु की पाचन शक्ति अच्छी होती है। ध्यान रहे पशु को दस्त ना लगा हो। अगर आपके पशु को दस्त की समस्या है तो ऐसी स्थिति में मीठे सोडे का इस्तेमाल न करें।

9) अब इन सभी सामग्रियों को आपस में अच्छे से मिलाकर ठंडा कर लें।

उपयोग करने का तरीक़ा:

इस मिश्रण को पशु को दिनभर के आहार में सबसे आख़िरी में दें। ध्यान रहे कि इसके बाद आपको पशु को न तो पानी पिलाना है और न ही चारा देना है। इसलिए इसे रात के समय दें। इस खुराक की मात्रा आप पशु के दूध के आधार पर भी तय कर सकते हैं। अगर आपका पशु 10 किलो दूध दे रहा है तो आप उसे 4-5 किलो दलिया ज़रूर दें।

ज़्यादातर किसान भाई दुधारू पशु की खुराक पर ही ध्यान देते हैं लेकिन जो पशु दूध नहीं दे रहे उन्हें पर्याप्त मात्रा में चोकर, दलिया और खली न देने से ब्यात के बाद भी उनका दूध नहीं बढ़ता। तो सीधे तौर पर देखा जा सकता है कि दूध की मात्रा का पशु की खुराक से सीधा सम्बंध है।

#milk of #cattle, #Dairy #farming 

और पढ़ें :

गाय और भैंस का दूध बढ़ाने के 4 आसान तरीक़े

 

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *